बेस्ट फ्रेंड नेहा ने खुद चुदवाई अपनी कुंवारी चूत

हैलो दोस्तो, मैं आपका राज.. नई दिल्ली से हूँ.. मैं 5’9” की हाइट का हूँ.. रंग गोरा और बॉडी एकदम कसरती है क्योंकि मैं रेग्युलर जिम जाता हूँ। मैं अधिकतर टी-शर्ट ही पहनता हूँ.. कॉलेज में बहुत पॉपुलर हूँ। मैं बहुत शरारती भी हूँ और स्पोर्ट्स में नम्बर वन हूँ।

यह मेरी पहली रचना है.. यह एक रियल स्टोरी है.. जो मेरी साथ पिछले साल घटित हुई है। मेरे और मेरी बचपन की दोस्त नेहा (यह असली नाम नहीं है) के बारे में है।

नेहा 5’1” की हाइट.. रंग एकदम दूध सा गोरा.. कॉलेज का हर लड़का उस पर लाइन मारता है.. लेकिन वो एक पढ़ाकू लड़की होने कारण इन बातों में अधिक ध्यान नहीं देती। उसका फिगर 36-28-36 का है ऐसा लगता है वो कि कोई मॉडल हो बस कद में कमी है।

बात दरअसल यह है कि हम दोनों ने ही 12 वीं के एग्जाम के बाद NDA का एंट्रेन्स एग्जाम दिया था और हम दोनों ही उसमें पास हो गए थे। उसके बाद हमें फिज़िकल टेस्ट के लिए 3 दिन के लिए आगरा जाना था।

हमारे दोनों के पिता भी सरकारी जॉब में एक ही फील्ड में हैं.. उन दोनों को तो हमारे साथ आने को टाइम ही नहीं था.. तो हम दोनों को साथ में आगरा जाना पड़ा।

हमारे परिवार पड़ोसी और अच्छे दोस्त होने की वजह से हमें पहले भी साथ में भेजते रहे थे। मैं तो बहुत खुश था.. मुझे लगता था कि इस बार नेहा को पटाने का कोई ना कोई चान्स तो मिल ही सकता है।

हम दोनों दूसरे ही दिन ट्रेन से आगरा के लिए निकल गए। ट्रेन में हम दोनों बहुत हँसी-मज़ाक करते हुए जा रहे थे।

वैसे तो नेहा बचपन से ही मेरे से हँसी-मज़ाक करती थी लेकिन न ज़ाने क्यूँ.. वो 10वीं के बाद से मुझसे हमेशा मेरी गर्ल-फ्रेंड के बारे में पूछती थी। पर मैं उससे ‘कोई नहीं है..’ कहता.. तो वो कहती- झूठ मत बोलो.. तेरी इतनी लड़कियों से बातें चलती रहती हैं.. और तेरी कोई गर्ल-फ्रेंड नहीं.. मैं मान ही नहीं सकती। लेकिन मैं उससे ‘नहीं है..’ ही बोलता था।

इसी तरह की बातें करते-करते हम आगरा पहुँच गए।

जब हम आगरा पहुँचे.. तो रात के 8 बजे थे.. हमारा टेस्ट अगले दिन 11 बजे से स्टार्ट होने वाला था। हम रूम लेने को एक होटल में गए.. मैंने काउंटर पर जाकर पूछा- दो कमरे चाहिए.. हैं क्या? पता चला कि हैं।

मैं नेहा के पास जा कर बोला- नेहा दो कमरे खाली हैं। वो बोली- दो कमरे क्यों.. एक ही रूम ले लो.. हम दोनों साथ में ही रहेंगे। मुझे अकेले में डर लगता है। मैंने उससे पूछा- आर यू श्योर? तो उसने कहा- यस.

.

हमने एक डबल बेड वाला कमरा ले लिया और खाना ऑर्डर करके कमरे में चले गए। कमरे में जाने के बाद पहली वो फ्रेश होने चली गई और मैं टीवी देखने लगा।

थोड़ी देर में जब वो बाहर आई.. तो मैं उसे देखता ही रह गया। उसने लाल रंग का सिल्क का गाउन पहना हुआ था और शायद उसने ब्रा नहीं पहनी थी.. क्योंकि उसके निप्पल साफ दिख रहे थे। मुझे ऐसे देखते हुए देख कर उसने कहा- ऐसे क्या देख रहे हो?

तो मैं कुछ नहीं बोला और फ्रेश होने चला गया। मैंने एक शॉर्ट्स ओर टी-शर्ट पहन ली और बाहर आ गया।

इतने में हमारा खाना आ गया और हम दोनों खाना खा कर टीवी देखने लगे।

हम दोनों बिस्तर पर बैठ कर टीवी देख रहे थे.. मैं चैनल चेंज कर रहा था.. तभी किसी चैनल पर ‘आशिक़ बनाया आपने’ मूवी चल रही थी.. मैं चैनल चेंज करने लगा.. तो नेहा ने कहा- लगा रहने दो ना.. मैंने ये मूवी नहीं देखी है.. मुझे वो देखनी है।

तो हम दोनों मूवी देखने लगे। थोड़ी देर बाद इमरान और उस हिरोइन का वो गाने वाला सीन चल रहा था। तभी मैंने नेहा की तरफ देखा.. तो वो बड़े ध्यान से देख रही थी और उसका एक हाथ उसकी चूत पर था। जैसे ही उसकी नज़र मुझ पर पड़ी.. तो वो शर्मा गई और मुझसे आँखें चुराने लगी और टीवी देखने लगी। मैं भी टीवी देखने लगा।

बाद में कब टीवी देखते-देखते मेरी आँख लग गई.. पता ही नहीं चला। करीबन 2-3 घंटे के बाद मेरे आँख खुली तो नेहा मुझसे पूरी तरह से चिपक गई थी और उसका एक हाथ मेरे खड़े हुए लण्ड को मसल रहा था। पहले तो मुझे लगा कि वो नींद में होगी.. लेकिन बाद में वो मेरे लण्ड को शॉर्ट्स के अन्दर हाथ डाल कर हिलाने लगी.. तभी मुझे लगा कि वो जाग रही है।

मैं पक्का करने के लिए झट से उठ गया और उससे बोला- नेहा यह तुम क्या कर रही हो.. तो पहले तो वो डर गई.. लेकिन बाद में उठ कर मुझसे गले लग कर ‘आई लव यू’ कहने लगी- मैं तुम्हें बचपन से पसंद करती हूँ और मैंने तुम्हारे लिए ही यह NDA के एग्जाम दिया है.. ताकि हमें साथ रहने का मौक़ा मिले।’

यह कहते हुए वो मुझे ज़ोर से ‘लिपकिस’ करने लगी, मैं भी उसका पूरा साथ देने लगा, मैं उससे फ्रेंच किस करने लगा और करीब 10 मिनट तक हम किस करते रहे।

जब हम अलग हुए.. तो मैंने रूम की लाइट चालू की और उसे देखने लगा।

उसका चेहरा बहुत ही खुश की मारे लाल हो गया था। उसके बाद मैं उसके मम्मों को दबाने लगा.
. उसके मम्मे इतने नर्म थे कि क्या बताऊँ.. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।

थोड़ी देर मम्मों को दबाने के बाद मैंने उसका गाउन निकाल दिया। अब वो मेरे सामने सिर्फ़ पैन्टी में थी। मैं उसके एक चूचे को दबा रहा था और दूसरे को मुँह में ले रहा था। उसके चूचुक तो एकदम गुलाबी थे। वो चूचे चुसवाने से गर्म हो रही थी और मेरे 7″ के लण्ड को अपने कोमल हाथों से शॉर्ट्स के ऊपर से ही हिला रही थी।

मैं उसके पूरे शरीर को चूमते हुए उसकी पैन्टी तक पहुँच गया और पहले तो मैंने उसकी चूत को पैन्टी के ऊपर से ही सूँघा.. तो पाया कि क्या मस्त महक आ रही थी। दोस्तो, क्या बताऊँ.. मजा आ गया।

उसके बाद मैं उसकी चूत को पैन्टी के ऊपर से ही सहलाने लगा.. तो वो मछली की तरह तड़पने लगी और थोड़ी देर बाद मैंने उसकी पैन्टी को भी निकाल दिया। उसकी गुलाबी क्लीन शेव चूत एकदम टाइट थी.. तो मैं समझ गया कि यह वर्जिन है।

मैं पहले तो उसकी चूत में उंगली डाल कर हिलाने लगा.. तो वो सिसकारने लगी, ‘उउऊह.. उऊउहह..’ करके तड़पने लगी। मैं उसकी चूत को अपने जीभ से चाटने लगा.. तो वो एकदम से और उत्तेजित हो कर मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी।

इसके कुछ ही पलों के बाद में हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए। अब वो मेरा लण्ड मुँह में ले रही थी और मैं उसकी चूत को चाटने लगा। थोड़ी देर बाद वो अकड़ने लगी और मेरे सिर को ज़ोर से दबाने लगी। उसने अपना सारा पानी मेरे मुँह में ही छोड़ दिया। क्या टेस्ट था यार.. उसकी चूत..आह्ह.. क्या बताऊँ.. एकदम नमकीन.. माल।

अब मैं सीधा हो गया.. नेहा मेरा लण्ड अभी भी चूस रही थी। मैं उसके मम्मों को दबा रहा था.. थोड़ी देर में मैं भी डिसचार्ज हो गया और उसने मेरा सारा पानी गटक लिया।

अब उसने मेरा लण्ड अपनी जीभ से चाट के साफ किया और फिर से हम दोनों लेट कर एक-दूसरे को लिपकिस करने लगे।

थोड़ी देर किस करने के बाद मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया। मैंने नेहा के नीचे तौलिया रख दिया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया, उसके पैर फैला दिए और उसकी चूत को थोड़ी गीली करके उसकी चूत के ऊपर अपना लण्ड रख कर धक्का मारा.. तो पहली बार में तो लण्ड उसकी चिकनी चूत पर से फिसल गया।

दूसरी बार नेहा ने लण्ड को अपने हाथ से चूत पर एड्जस्ट किया और मैंने धक्का मारा तो दो इंच लण्ड अन्दर घुस गया। नेहा दर्द से चीखने लगी और कहने लगी- आह्ह.
. बहुत दर्द हो रहा है.. निकालो.. बहुत दर्द हो रहा है।

मैं वैसे ही रुक कर उसे किस करने लगा और थोड़ी देर बाद मैंने और एक धक्का मारा और इस बार मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में जड़ तक चला गया। लेकिन इस बार मेरा मुँह नेहा के मुँह पर होने कारण उसकी चीख मेरे मुँह में ही दब गई।

उसकी आँखों से पानी निकल आया इसलिए मैं वैसे ही रुक कर उसे किस करता रहा और उसके मम्मों को दबाता रहा। जब थोड़ी देर बाद नेहा ने कहा- आह्ह.. दर्द कम हो गया है.. तो मैं भी अपना लण्ड से धीरे-धीरे धक्के मारने लगा।

अब नेहा भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और उसके मुँह से अब अजीब से आवाजें निकलने लगी थीं ‘आह्ह.. राज.. गो फास्ट फास्टर.. राज..’ मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और वो भी नीचे से अपनी गाण्ड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लग गई।

थोड़ी ही देर में नेहा झड़ गई.. उसका गर्म पानी मुझे मेरे लण्ड पर महसूस हो रहा था। मैंने चूत को चोदने की स्पीड और बढ़ा दी और करीबन 15 मिनट बाद मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया। झड़ने के बाद मैं वैसे ही उसके ऊपर लेट कर उसे किस करने लग गया और वैसे ही नंगे लेटे हुए कब नींद लग गई.. पता ही नहीं चला।

जब सुबह हमारी आँखें खुलीं.. तो हम एकदम नंगे एक-दूसरे से चिपक कर पड़े हुए थे। उठने के बाद पहली तो हमने एक किस किया और नेहा नहाने जाने लगी। नेहा को ठीक से चलने में दिक्कत हो रही थी.. तो मैंने उससे अपनी गोदी में उठा लिया और उसे बाथरूम में लेकर गया।

हम दोनों ने साथ में शावर लिया। नहाने के बाद मैं तैयार होकर मेडिकल से नेहा के लिए पेनकिलर और आइपिल ले कर आया। हमने ब्रेकफ़स्ट किया और फ़ीज़िकल टैस्ट के लिए चले गए।

टैस्ट में दोनों ही फेल हो गए.. लेकिन फिर भी और दो दिन वहीं रह कर हमने बहुत चुदाई की।

अभी वो इंजीनियरिंग के लिए पूना चली गई है और मैं नई दिल्ली में ही पढ़ रहा हूँ.. लेकिन जब छुट्टी में नेहा नई दिल्ली आती है.. तो मुझसे ज़रूर चुदवाती है।

यह हम दोनों के प्यार की चुदाई की सच्ची कहानी थी।

आप सभी से उम्मीद करता हूँ कि आपके कमेंट्स ईमेल पर मिलें। अगर मुझे आपका अच्छा रिस्पोन्स मिला.. तो मैं अपनी अगली स्टोरी में आपको बताऊँगा कि मैंने नेहा की कोरी गाण्ड कैसे मारी.. मुझे मेल जरूर कीजिएगा। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!