नोएडा में रहने वाली भाभी की चुत औऱ गांड दोनों मारी कून भी निकला गांड से

दोस्तो, मेरा नाम राहुल है मेरी उम्र 23 साल है.

मैं नोएडा का रहने वाला हूँ.

 

मैंने इस साइट पर बहुत सी सेक्स कहानियां पढ़ीं तो मेरा भी मन हुआ कि आप लोगों को अपने साथ हुई एक सच्ची सेक्स कहानी सुनाई जाए. और यह मेरा पहला एक्सपीरियंस है जो मैं आपको बताने जा रहा हूं नाम और जगह बदल बाकी सब सच है  

 

 दोस्तों यह बात तब की है जब मैं नोएडा में अपनी पहली जॉब के लिए गया था मेरी जॉब लग गई थी जब करने लगा था

 

 मैंने एक मकान में किराए का एक फ्लैट लिया 1 बीएचके फ्लैट होगा जिसमें और भी फैमिली रहती थी

 मेरे सामने वाली फ्लैट में एक भाभी रहती थी जिनका नाम रानी था जिनके दो बच्चे थे देखने में बहुत ज्यादा सुंदर थे जिनका फिगर होगा 34-30-36 का है. वह देखने में बहुत ज्यादा सुंदर और अट्रैक्टिव थे

 

 मेरी जॉब 10से 5थी रोज शाम को आकर मैं उनको देखता और और उनके साथ कैसे सेक्स करूं यह प्लान करता रहता था

 

 भाभी की जो हस्बैंड थे उनके उमर 40 साल होगी और वह किसी कंपनी में जॉब करते थे

 

 एक दिन मेरे ऑफिस की छुट्टी थी और में मैं छत पर कपड़े डाल रहा था तभी मैंने देखा कि रानी भाभी भी अपने कपड़े को सुख रहे हैं मैंने मौका देख यही मौका है कुछ बात कर लेता हूं और मैंने भाभी के पास घर मैंने पूछा भाभी आप कहां से हो भाभी ने बताया कि मैं दिल्ली से हूं और मेरे से भी पूछ मैंने बताया कि मैं कानपुर से हूं अभी नोएडा में हूं इसके बाद भाभी चली है

 

 और धीरे-धीरे हम लोगों के बीच में बात करना स्टार्ट हो गया जब भी मैं ऑफिस से आता भाभी को गुड इवनिंग हेलो बोल देता भाभी भी मुझे अच्छे से रिस्पांस करने का लगी और धीरे-धीरे हम लोगों की बातें अच्छे से होने लगे और अब मैं प्लान बनाने लगा की भाभी की कैसे चुदाई करो

 

 बस यह सोचकर मैं कई बार मुट्ठ मार कर सो जाता भाभी को याद करके और एक दिन एक रिक्वेस्ट है मेरे फेसबुक पर मैंने देखा वह रानी भाभी की थी मैं देख कर बहुत खुश हुआ और मैं तुरंत अपसेट करके हेलो गुड आफ्टरनून भेजा

 धीरे-धीरे भाभी से मेरी फेसबुक पर बातें होने लगे 

 

धीरे धीरे हम दोनों में प्यार हो गया.

हम लोग रात को काफी देर देर तक बात करने लगे.

 मैंने भाभी से बोला मुझे आपसे मिलना हैं इस पर भाभी ने मुझे जवाब दिया कि हम फ़ोन पर सब बातें कर लेते हैं मिलना किस लिए मैंने बोला बस ऐसे ही मिलना है भाभी ने बोला कि अभी भैया एक-दो दिन में गांव जाने वाले हैं

 

 बच्चों के साथ उसके बाद मैं आपको बताऊंगा मैं रोज उसे दिन का इंतजार करने लगा कब जाएंगे कब जाएंगे और वह इंतजार की घड़ी मेरी एक दिन पुरी बीच भाभी का कॉल आया उन्होंने मुझे बताया कि आज रात 8:00 तुम आ जाना भैया 6:00 बजे गांव निकल जाएंगे बच्चों को लेकर यह सुनकर मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया और मैं बाथरूम में जाकर मुठ मारी और 8:00 का इंतजार करने लगा और 8 बजे मैं उनके घर पहुंच गया.

 

 वह अपने घर में पास मेरा इंतजार कर रही थी. उन्होंने दरवाजा खोल और बोली अंदर आओ भाभी ने रेड कलर की साड़ी पहन रखी थी एकदम सेक्सी लग रही थी उसको देखते ही मेरा लंबा, मोटा लंड खड़ा हो गया.

जबरदस्त माल थी वह! हम दोनों ने थोड़ी देर बात की.

उसने मुझे चाय लाकर दी और उसके बाद मैंने रानी को गले लगा लिया और किस करने लगा.वह भी मेरा साथ दे रही थी. हम दोनों बेहद गर्मजोशी से चूमाचाटी करने लगे थे. ऐसा लग रहा था हम लोग एक दूसरे में खो रहे हैं फिर मैंने धीरे-धीरे अपने सारे कपड़े उतारे फिर मैं उसकी साड़ी हटा दी 

अब में औऱ नेहा दोनों ने जल्द ही एक दूसरे के सारे कपड़े उतार दिए और एकदम नंगे हो चुके थे. फिर जाकर मैं बेड पर बैठ गया और एक गिलास पानी पिया इसके बाद मैं नेहा भाभी की एक-एक करके दोनों दूध 10 मिनट के लिए पिए इतना मजा आ रहा था जो मुझे अपने जीवन काल में कभी नहीं आया ऐसा लग रहा था कि मैं अमृत पी रहा हूं इसके बाद भाभी ने मुझे हटाया और बोला तुम ही पीते रहोगे मुझे भी कुछ मौका दो इतना बोलने के बाद उनकी नज़रें मेरे लंड को एकदम मदहोशी नजरों से देखें रही थी शायद उसे मेरे लंबे और 4 इंच मोटे लंड को देख कर बड़ी प्रसन्नता हुई थी इसके बाद 

मैंने अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और 69 में होकर उसकी चूत को चाटने लगा.

थोड़ी देर के बाद रानी भाभी ने अपनी चूत को मेरे मुँह में दबाया और आह आह करती हुई उसने अपनी चूत का पानी छोड़ दिया. पानी मुझे थोड़ा-थोड़ा नमकीन जैसा महसूस हुआ 

मैं उसकी चूत का पूरा पानी पी गया.

वह निढाल हो गई थी.

 

तब मैंने अपना लंड उसके मुँह में दिया और जोर जोर से पेलने लगा.

कुछ ही समय में मैं झड़ने को हुआ और मैंने अपना सारा पानी उसके मुँह में ही छोड़ दिया.

 

मेरे लंड का कुछ रस उसके गालों पर लग गया और कुछ मम्मों पर लग गया.

वह अपने मुँह में आए वीर्य को खा गई और उंगली से अपने जिस्म पर लगे वीर्य को उठा उठा कर चाटने लगी.

 इसके बाद रानी भाभी मुझे 10 मिनट तक मेऱ लंड को किस करती रही 

मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने एक बार फिर से लंड को उसके मुँह में देकर गीला करवाया और चुदाई के लिए रेडी हो गया.

 

भाभी भी सीधा लेट गई.

 10 मिनट तक मैं उनकी चुत को चटा फिर 

मैंने उसकी दोनों टांगें खोल कर चूत पर लंड का निशाना सैट कर दिया.

फिर मुँह से मुँह को दबाया और चूत के मुँह पर रखे हुए लंड को एक ही झटके के साथ पूरा अन्दर घुसा दिया. वह एकदम से झटपट आ गई और बोली निकालो  

 

वह दर्द के मारे चिल्ला उठी क्योंकि वह बता रही थी कि उसके पति का लंड मेरे लौड़े से आधा ही है.

 

 

कुछ ही देर बाद वह मेरे लौड़े को झेल गई और अब नेहा बहुत ही कामुक आवाजें निकाल रही थी- आह आह ओह माई गॉड … और कसके चोदो … मेरी चूत की गर्मी निकाल दो … आह ओह आह मैं गई और जोर से चोदो मुझे … आह अब तक किसी ने ऐसा नहीं चोदा मुझे … आह मेरा पानी निकलने वाला है.

इधर मैं अपनी पूरी रफ्तार से रानी को चोद रहा था.

 करीब 15 से 20 मिनट बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए.

उतनी देर में रानी दो बार पहले भी झड़ चुकी थी.

 

हम दोनों ने सेक्स के बाद एक लंबी किस की और एक-एक गिलास दूध पिया 

 

थोड़ी देर के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने रानी से लंड मुँह में लेने को बोला.

 

उसने तुरंत मुँह खोल कर लंड को पूरा अन्दर ले लिया.

मैंने जोर जोर से झटके देना शुरू कर दिए.

 

वह मुँह चोदने से मना करने लगी और बोली- जान, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा … प्लीज अपना लंड मेरी चूत के अन्दर डालो.

 

मैंने लंड मुँह से निकाला और उसे डॉगी पोजीशन में करके पीछे से लंड उसकी चूत में पेल दिया.

वह आह ओह करके लंड के मजे लेने लगी.

 

मैं बहुत तेज तेज झटके लगा रहा था.

मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था.

 वह बोल रही थी इस तरह मैंने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया पति तो मेरे दो-तीन मिनट में झाड़ जाते हैं 

 

वह बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी और चीख भी रही थी.

 

करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद वह झड़ गई.

पर मेरा अभी नहीं हुआ था.

वह लंड निकालने को बोल रही थी.

 

मैंने कहा- मेरा अभी नहीं हुआ है.

वह बोली- प्लीज जान अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है. तुम मेरे मुँह में दे दो. मैं मुँह से चूस कर झड़वा दूँगी.

 

मैं चूत के अलावा लंड कहीं और देना नहीं चाहता था.

मैंने उसकी बात को अनसुना किया और उसकी कमर पकड़ कर बहुत तेज रफ़्तार से उसकी चुदाई करने लगा.

 

करीब बीस मिनट और चोदने के बाद मेरा पानी निकलने को हुआ तो मैंने अपना लंड उसके चेहरे के पास कर दिया.

वह अपने हाथों से लंड की मुठ मारने लगी और सारा पानी अपने मुँह में भर कर पी लिया.

 

 

थोड़ी देर बाद उसने मेरा सिर पकड़ लिया और मेरे मुँह में पेशाब करने लगी.

मैंने मना नहीं किया.

 

थोड़ी देर के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

इस बार मैंने उसकी गांड मारने की बात कही, तो वह मना करने लगी. बोली ऐसा मैंने अपने कभी नहीं किया और ऐसा मैं नहीं कर सकती हूं तुम्हें बुरा लगे भला लगे मैं ऐसा नहीं करूंगा मैंने ऐसा कभी नहीं किया है मेरे से बर्दाश्त नहीं होगा माफी चाहूंगी  

 

मैं गुस्सा होने का नाटक करने लगा.

थोड़ी देर के नानुकुर करने के बाद वह मान गई.

 

मैंने उससे वैसलीन लाने को बोला को बोला.

वह लेकर आ गई.

मैंने उसे पीठ के बल टेबल पर बैठाया और उसकी गांड के में थोड़ी सी वैसलीन डाल दी जिससे की चिकनी हो जाए ड.

 

मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड में डाली तो मुझे पता चला कितनी टाइट है एकदम टाइट थी अब मेरे से बर्दाश्त नहीं हो रहा था 

 

मैंने अपना लंड पर वैसलीन लगाया और उसकी गांड के छेद पर सुपारा रख कर एक करारा धक्का लगा दिया.

वह बहुत तेज चिल्लाई- उई मां फट गई … आह जानू प्लीज निकाल लो … मैं मर जाऊंगी … मेरी गांड फट गई आह आह ओह हाय मैं मर गई … प्लीज बाहर निकालो. तुम्हें मेरी कसम है निकालो मर जाऊंगी निकालो 

 

पर पता नहीं क्यों, उस समय मुझे क्या हुआ था; मैं रूका ही नहीं और लगातार झटके पर झटके दिए जा रहा था.

थोड़ी देर के बाद वह रानी भाभी की गांड में लंड के मजे लेने लगी.

 

अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी.

 

अब वह कह रही थी कि आह और अन्दर डालो … फाड़ दो मेरी गांड को. अब तक मैंने किसी से गांड नहीं मरवी हैं पहली बार तुमसे मरवी हैं अच्छे से मारो मारो  

मैं गांड मारते हुए बोला- हां जान, तुम्हारी गांड बहुत टाइट है … इसको तो फाड़ना ही पड़ेगा.

 

हम दोनों की गांड चुदाई का खेल धकापेल चलने लगा.

वह कहने लगी कि मेरी गांड की सील तुमने ही तोड़ी है. मुझे मालूम ही नहीं था कि गांड मरवाने में भी मजा आता है. अब से तुम मेरे किसी भी छेद में लंड पेल कर मुझे चोद सकते हो.

 

कोई 20 मिनट तक गांड चुदाई करने के बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया.

 

उसके बाद उसको सीधा लेटा दिया और मैं उसकी चूत चाटने लगा. और वह मेरा ल** अपने मुंह में ले रही थी पूरा-पूरा  

कुछ ही समय के बाद उसने पानी छोड़ दिया.

 

थोड़ी देर तक मैं ऐसा ही लेटा रहा.

पता नहीं हम दोनों को कब नींद आ गई.

जब आंख सुबह हो चुकी थी 

 

मैं कपड़े पहन कर और उसको किस करके व उसे बाय बोल कर उसके घर से निकल निकाल कर अपने फ्लैट में आकर सो गया 

 

अभी भी हमारी प्यार ऐसा ही है. जब भी मौका मिलता है हम लोग ऐसे ही सेक्स करते हैं 

 

मैं उसे दूसरी बार कब मिला और क्या हुआ, वह अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा. उसके साथ उसकी कुंवारी बहन की चुदाई भी की वह सब कैसे हुआ, आपको जरूर लिखूँगा.

 

बस आप मुझे मेल करके बताएं कि आपको मेरी इंडियन भाभी की चुत औऱ गांड में लंड की कहानी कैसी लगी. 

धन्यवाद.

 

ss6280209@gmail.com